हिंदी दिवस :ऐसी पांच फिल्में जिन्हें देख आपको भी होगा हिंदी पर गर्व

बॉलीवुड में कई ऐसी फिल्में आईं जहां हिंदी को महत्व दिया गया. ये फिल्म हिट ही नहीं सुपर डुपर हिट साबित हुईं. एक तरफ जहां बॉलीवुड हॉलीवुड के पीछे भाग रहा है और उनकी फिल्मों को कॉपी कर रहा है. वहीं इन फिल्मों ने हिंदी को सब्जेक्ट बनाया और उस पर फिल्म बनाई. हिंदी दिवस के मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसी फिल्मों के बारे में जिन्हें देख आपको भी होगा हिंदी भाषी होने पर गर्व…

इंग्लिश विंग्लिश
‘इंग्लिश विंग्लिश’ फिल्म में लीड रोल श्रीदेवी ने निभाया है, जिसका नाम शशि है. जो अंग्रेजी भाषा में अपने आपको व्यक्त नहीं कर पाती. उसकी 12 साल की लड़की पैरेंट्स-टीचर मीटिंग में अपनी मां को ले जाने में शर्मिंदगी महसूस करती है.  शशि अपनी बहन की बेटी की शादी के लिए न्यूयॉर्क जाती है और वहां अंग्रेजी सीखने का फैसला करती है.

फिल्म में यह बताने की कोशिश की गई है कि भारत में अंग्रेजी का हौव्वा बनाया गया है और माहौल ऐसा बनाया गया है कि अंग्रेजी में बात करना विद्वता की निशानी है. टूटी-फूटी हिंदी या क्षेत्रीय भाषा यदि कोई बोलता है तो उसका कोई मजाक नहीं बनाया जाता.

english vinglish


हिंदी मीडियम
इस फिल्म की कहानी दिल्ली में रहने वाले एक व्यापारी राज बत्रा की है, जो दिल्ली में शादी में उपयोग होने वाले कपड़ों का व्यापार करते रहता है. वह अमीर होता है, लेकिन अच्छी तरह अंग्रेजी नहीं जानता. फिल्म में इरफान खान और सबा कमर लीड रोल में हैं. ‘हिंदी मीडियम’ अंग्रेजी बोलने वालों और न बोलने वाले के बीच के अंतर और शिक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े करती है.

hindi medium


नमस्ते लंदन
‘नमस्ते लंदन’ में भला अक्षय कुमार की वो स्पीच कैसे भुलाई जा सकती है उन्होंने कैटरीना कैफ की सगाई के दौरान दी थी जिसमें भारत की सभ्यता के साथ साथ हिंदी का महत्व समझाया था. इससे ना सिर्फ फिल्म में कैटरीना उनसे इंप्रेस हो गई थी बल्कि हिंदी प्रेमियों ने भी हॉल में खड़े होकर तालियां बजाई थीं. फिल्म में बताया गया है कि अंग्रेजी बोलने वाले ही क्लासी नहीं होते. हिंदी बोलने वाले भी बाजी मार सकते हैं.

namastey london


गोलमाल
साल 1979 में आई अमोल पालेकर की फिल्म ‘गोलमाल’ में भी बड़े ही रोचक ढंग से हिंदी के महत्व को समझाया गया है. फिल्म में उनके साथ उत्पल दत्त, बिन्दिया गोस्वामी, दीना पाठक, ओम प्रकाश, युनुस परवेज औऱ अमिताभ बच्चन ने भी अहम किरदार निभाया था.

चुपके चुपके

साल 1975 में आई फिल्म ‘चुपके चुपके’ एक कॉमेडी फिल्म है जो हिन्दी के इर्द गिर्द घूमती है. इस फिल्म में धर्मेंद्र, शर्मिला टैगोर, अमिताभ बच्चन, जया बच्चन और ओम प्रकाश लीड रोल में हैं.\

Share Your Thoughts In Comment Box Below